मददगार मददगार

" के.रि.पु.बल मद्दगार ” : एक शांतिपूर्ण कश्मीर की उत्पत्ति


कश्मीर में 2016 की गर्मियों में सुरक्षा बलों, विशेष रूप से सीआरपीएफ द्वारा सामना किए जाने वाले सबसे चुनौतीपूर्ण समय में से एक था।

 प्रमुख आतंकवादी कमांडर के उन्मूलन के बाद, घाटी में कानून और व्यवस्था की उथल-पुथल के तहत फिर से शुरू हुई, जिसने आम जनता

को सबसे अधिक प्रभावित किया। व्यापक उथल-पुथल के साथ बढ़ी हुई उग्रवादी गतिविधियों ने एक ऐसा परिदृश्य तैयार किया जहां सिविल

 प्रशासनिक मशीनरी लगभग ठप हो गई। सार्वजनिक उपयोगिताओं, आवश्यक सेवाओं, शिक्षा, आदि को पूरी तरह से बाधित कर दिया गया

 था और असामाजिक और देश विरोधी तत्वों द्वारा इस सब का उपयोग करने के लिए जनता के बीच एक मोहभंग पैदा करने का प्रयास किया

जा रहा था, इस प्रकार लोगों और सरकारी एजेंसियों के बीच दरार को व्यापक किया गया। यहां तक कि जनता को अपनी शिकायतों को

महसूस करने देने के लिए कुछ तंत्र की आवश्यकता थी और इस प्रकार, एक हेल्पलाइन शुरू करने के विचार की शुरुआत थी, जो लोगों को

उनकी चिंताओं को सुनने और उनकी मांगों और शिकायतों को सामने रखने की अनुमति देता । यह एक बहुत ही नवीन अवधारणा थी और

 इसका उद्देश्य कश्मीर में एक उच्च पेशेवर बल यानी सीआरपीएफ की व्यापक तैनाती का उपयोग करना था। सीआरपीएफ के पास कश्मीर

 में गाँवों के अवशेषों की भी तैनाती है और इस प्रकार, पैन-इंडिया की उपस्थिति के साथ-साथ, जब भी और जहाँ भी जरूरत होती है, कश्मीर

 में आम आदमी की समस्याओं को हल करने में स्थानीय लोगों की सहायता करने में एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाएगा और इससे उनके द्वारा

 हुए घावों को ठीक किया गया। इसके अलावा, यह सीआरपीएफ को जनता के साथ घनिष्ठ और दोस्ताना सम्बंध बनाने में मदद करेगा और

 इस तरह से काफी हद तक उग्रवाद की समस्याओं का समाधान करेगा

के.रि.पु.बल "मद्दगार (MADADGAAR ) को औपचारिक रूप से लॉन्च किया गया । जम्मु और कश्मीर के माननीय राज्यपाल ने 16 जून
2017 को टैगोर हॉल श्रीनगर में इसका उद्घाटन किया था । मद्दगार 24x7 सुविधा प्रदान करती है और मदद के लिये टोल फ्री नंबर :
‘14411’ व्हाट्सएप 7082814411, ट्विटर हैंडल @CRPFmadadgaar पर तथा ईमेल : madadgaar@crpf.gov.in,
crpfmadadgaar@gmail.com पर संपर्क किया जा सकता है ।
Go to Navigation