हीरो का विवरण

श्रीसर्बदीप सिंह विर्क
कर्मियों का नाम
श्रीसर्बदीप सिंह विर्क
रैंक और यूनिट :
Dy. Inspector General of Police
जन्म स्थान :
पिता का नाम & पता :

वीरता के प्लेस :
Deputy Inspector General, Amritsar, Punjab
पुरस्कार / भेद :
जन्मतिथि :
सेना के शामिल होने की तिथि :
वीरता की तिथि :
अगस्त 06, 1984

संक्षिप्त:

श्रीसर्बदीप सिंह विर्क, भा.पु.से ने सन् 1970 में भारतीय पुलिस सेवा में षामिल हुए। उन्हें महाराश्ट्र राज्य कैडर आबंटित किया गया था तथा वर्श 1984 तक उन्होंने इसके विभिन्न जिलों में कार्य किया। पंजाब में उपद्रव के कारण विभिन्न राज्यों से कुछ अधिकारियों को प्रतिनियुक्ति पर पंजाब में तैनाती के लिए चुना गया था। श्री एस0एस0 विर्क भी उन्हीं चुने गए अधिकारियों में से एक थे तथा उन्होंने पंजाब में दिनांक 6/8/1984 को ड्यूटी पर रिपोर्ट किया। उन्होंने वहां पर वरिश्ठ पुलिस अधीक्षक जालंधर एवं अमृतसर दोनांे ही महत्वपूर्ण एवं संवेदनषील कार्यभारों को ग्रहण किया। इन दोनों स्थानों पर उन्होंने अपनी विष्वसनीयता एवं उपयोगिता को साबित किया। जब पंजाब में आतंकवाद अपने चरम पर था तब श्री विर्क पुलिस उप महानिरीक्षक के पद पर पदोन्नति पर केन्द्रीय रिजर्व पुलिस बल को आबंटित किए गए तथा उन्हें अमृतसर में नवसृजित पद पर तैनाती दी गयी। यहां पर इन्होंने कार्रवाई के दो तरीकों को अपनाया। पहले भाग में यह निर्णय लिया कि पुलिस बल के नेतृत्व में सुधार किया जाए तथा दूसरे भाग में उग्रवादियों पर सामने से हमला किया जाए। छापामार एवं घात लगाकर किए जाने वाले हमलों से काफी संख्या में उग्रवादियों का सफाया कर दिया गया। इसके बाद इन्होंने अपना ध्यान गिरफ्तार किए गए उग्रवादियों से पूछताछ पर केन्द्रित किया गया तथा उनसे प्राप्त सूचनाओं के आधार पर कई सफल अभियानों का संचालन किया गया। इनके नेतृत्व में बहुत से उग्रवादी मारे गए। ऐसा करने के दौरान उग्रवादियों की ओर से मिलने वाली धमकियों से निपटते हुए श्री विर्क ने अपेक्षित परिणाम प्राप्त किए। उनकी उत्कृश्ट सेवा के यथोचित अभिज्ञान में श्री सर्बदीप सिंह विर्क को ‘‘पदमश्री’’ से अलंकृत किया गया।
Go to Navigation