महानिदेशक का संदेश महानिदेशक का संदेश

महानिदेशक का संदेश

       केन्द्रीय रिजर्व पुलिस बल भारत का सबसे प्राचीन एवं विशाल केन्द्रीय सशस्‍त्र पुलिस बल है। भारत के प्रथम गृह मंत्री एवं दूरदर्शी लौह पुरूष सरदार वल्लभ भाई पटेल ने ही इस बल का वर्तमान नामकरण किया एवं वर्ष 1949 में संसद के अधिनियम द्वारा इसकी नूतन आधारशिला रखी। उन्होंने 19 मार्च 1950 को केरिपुबल को राष्‍ट्रपति का ध्वज प्रदान कर इस बल को एक विशिष्‍ट पहचान दी तथा दृढ़ इच्छाशक्ति से देशसेवा करने हेतु समर्थ बनाया।

 

                        समय के साथ इस बल ने अपनी विशेषज्ञता प्राप्त विशिष्‍ट ईकाइयों को विकसित किया जिसमें दंगारोधी तथा भीड़ नियंत्रण के लिए ‘आरएएफ’ (रेपिड एक्‍शन फोर्स) एवं वामपंथी उग्रवाद से प्रभावी ढंग से निपटने के लिए ‘कोबरा (कमांडों बटालियन फॉर रेजोल्यूट एक्‍शन) शामिल है। बल की तैनाती प्रमुख रूप से देश के तीन उपद्रवग्रस्त क्षेत्रों यथा जम्मू एवं कश्‍मीर, वामपंथ उग्रवाद ग्रस्त राज्यों तथा पूर्वोत्तर भूभाग में अराजक तत्वों को समाप्त कर सामान्य हालात बहाल करने के लिए की गई है ताकि वहां के निवासियों में सुरक्षा एवं सुगमतापूर्ण जीवन यापन का परिवेश कायम हो सके।

 

                        केरिपुबल देश का सबसे अधिक अलंकृत पुलिस बल है, जिसे कृतज्ञ राष्‍ट्र ने 1976 वीरता पदक प्रदान किए हैं। निःस्वार्थ भाव से देश सेवा करते हुए इस बल के 2198 वीर योद्धाओं ने अपना सर्वोच्च बलिदान दिया है। हमारे बहादुरों ने सदा देशवासियों की रक्षा हेतु अपने प्राण न्यौछावर किए हैं। हम अपने शहीदों को शत् शत् नमन करते हैं।

 

                        ‘राष्‍ट्र सर्वोपरि’- की अवधारणा ही बल की अटल परंपरा है। अपनी ईकाईयों और उनके विस्तार के अनुरूप केरिपुबल का स्वरूप अखिल भारतीय है। हमारे देश के बहुआयामी समाज के प्रत्येक वर्ग के कार्मिकों से सुसज्जित यह बहादुर बल ‘विविधता में एकता’  तथा देश की बहुरंगी संस्कृति को दर्शाते हुए एक ‘लघु भारत एवं ‘एक भारत श्रेष्‍ठ भारत के विचारों को सही अर्थ में चरित्रार्थ करता है।

 

                        वर्तमान में तेजी से बदलते हुए ‘तकनीकी विकासके नित नए आयामों को अपनाते हुए केरिपुबल अपने कर्तव्य पथ पर अग्रसर है। यह बल अपनी परिचालनिक दक्षता को उन्नत करने के लिए अत्याधुनिक प्रोद्योगिकी का उपयोग करने हेतु सदैव तत्पर रहता है। बल ने लघु तीक्ष्णता वाले संघर्षो के विभिन्न आयामों से निपटने हेतु अपने कौशल को सदैव सुसंगत रूप से विकसित करने का प्रयास किया है।

 

                        केरिपुबल हमेशा एक लोकान्मुखी संगठन रहा है जो आम आदमी के जीवन को सुगम बनाने का आकांक्षी है। अपने कर्तव्यों को अंजाम देने के साथ साथ यह बल अपने एवं बुद्धिजीवी तथा तकनीकी समुदाय सहित आम जनता के बीच मौजूद खाई को पाटने का कार्य भी कर रहा है।

 

                        प्रत्येक अवसर पर अपने सिद्धांतसेवा एवं निष्‍ठा’  पर खरा रहने एवं उच्च श्रेणी तथा एक समृद्ध परंपरा वाले बल के महानिदेशक के रूप में नेतृत्व करना मेरे लिए विनीत रूप में अति गौरव का विषय है। हम आगे भी इस महान देश के नागरिकों का भरोसा एवं विश्‍वास जीतने का प्रयास करते हुए उनकी सेवा में सतत कार्यरत रहेंगे। कृपया स्वच्छंद रूप से अपने अमूल्य सुझाव प्रदान करें ताकि हम आपकी बेहतर ढंग से निरंतर सेवा करने में समर्थ हो सकें।

 

                                                                                                        जय हिंद ।

                                                                          डॉ0 आनंद प्रकाश माहेश्‍वरी भा0पु0से0


 


Go to Navigation